Self Hypnotism

Self Hypnotism



Our mind is divided into 3 parts – conscious mind (conscious state), subconscious mind (unconscious state) and unconscious mind (unconscious state) and works according to the need of the hour.

When you are aware of your surroundings and can know what is going to happen next, your mind is totally conscious and reactive. This is one of the most common stage in which your mind stays. When you are in this status of mind, you can actually store everything that is happening around you in your memories can bring those events or things back to your face whenever you feel like experiencing it with Hypnotherapy in Gurgaon. Your mind notices everything and if you are asked about any particulars, you can easily recognize it. When you have to focus too much to remember, you are using your subconscious mind.

Sometimes what we think and desire, we are afraid to share and our unconscious part of mind suppress us to think the way that we don’t want to think like at any cost. We are not sure about what we are going to do. The best example is the childhood stories that our parents tell us which we don’t remember at all but still believe to be true.

In Hypnosis in gurgaon, the conscious mind of man is brought to the rest state and is then given command to work according to the person who is performing hypnosis. This helps an individual to give any information directly to the unconscious mind, which he could not give before and use it to their benefits. hypnosis is the psychological way in which any person is brought into the semaphore by suggestions, which you can call even a Samadhi, or dream, but in a stage where you can get overruled and controlled by an external force in Hypnosis classes in Gurgaon.

All your sense organs can get controlled and your actions can be manipulated very easily whether it is talking, writing, drawing or speaking. A person can do all the work in the hypnotized state, but he does all this work on the suggestion of the Hypnotherapist in gurgaon. This is a stage where you cannot argue or control yourself at all.

2. The Significance of Hypnosis

This is one of the most challenging ways of controlling mind because it can be considered immoral sometimes. Many people believe that hypnotic forces force them to commit immoral or misdeeds like theft, murder, etc., or their hypnotized state and the hijackers can take the loss of rape or take their signature on some important documents. With the help of Hypnotherapist in gurgaon, you can use this process most purposefully and understand yourself with a deeper insight.

3. Your brain doesn’t get harmed

No one should hypnotize any person without their consent and neither his mind can be controlled without their knowledge, so there is nothing to worry. Hypnosis in gurgaon basically can take you to a state where his consciousness cannot accompany an individual but rather controlled by an external force.
Benefits of self-worthiness

It is very important that you know self-hypnotism not only provides you mental comfort but also focuses more attention and concentrates you on the things that you should focus in life.

1. Meet your Objectives

With the help of Hypnotherapist in gurgaon , you will not only increase your concentration power but you will also be able to give more attention to the basic changes that come in your life. Being self hypnotized, you can achieve your specific objectives in a less time.

2. Understanding the personalities

To understand and solve the feelings and behavior of a person, the hypnosis is used by medical experts. When you are in a state of self-esteem, you can increase your memory and can improve your self confidence by getting things solved and your obstacles are removed.

How to achieve this kind of mental peace?

1. A cool and comfortable place

There is a proper situation which has to be made when one wants to undergo hypnosis. Go to a quiet room and sit in any comfortable armchair, sofa, or bed in feel better with Hypnosis classes in Gurgaon

2. Remove the stress from your mind

You need to avoid all sorts of negatives from your mind and you will see change coming for the best. You can definitely improve your life by brining small changes and feel better with Hypnotherapy in Gurgaon.

3. Relax and feel relaxed

When you get spare time, sit in a quiet room and enjoy being yourself. Close your eyes and meditate, take your shoes off and sit comfortably to enjoy your time.

4. Focus on the positives

It is a good thought to pay interest in things that are easy to focus. Look at that point and take a deep breath and leave the breath only after staying for a while.

5. Get the adequate sleep

It is very important that you have a comfortable and needed sleep to keep you mind conscious and in an active state. Close your eyes, relax and enjoy the good things that come in your day to day life with Hypnosis in Gurgaon.

6. Reduce pressure

You should try and reduce pressure in your mind as much as possible. When things start changing in your mind and your brain starts working according to you, you should start counting from 5 to 0 to feel more relaxed and stress free. It helps you to get to a situation where do not need any extra effort to relax yourself.

7. Understanding what is happening in the moment

It is very important that you know what is the current status of your mind and how can you enhance your situation. When you begin to understand your current situation then start counting to 0-5 and when this count is complete, open your eyes on the sound of five, stretch your hands and feet and with the help of Hypnotherapy in Gurgaon, you can get all the needed relief.

8. Explore your inner strength

This technique will help you to understand the depth of your brain when you practice it three to four times and you will get strengthened both physically and mentally.

हिप्नोटिज्म

हमारे mind (मन) के 3 levels होते है – conscious mind (चेतन अवस्था), subconscious mind (अर्धचेतन अवस्था) and unconscious mind (अचेतन अवस्था).

जब आप जागरूक होते है, सवाल जवाब करते है, अपने आस पास के बारे में हो रही घटनाओ को अच्छे से समझते है तो उस समय आप चेतन अवस्था में होते है, वही दिन भर में बहुत सी घटनाये, चीजे आपके आस पास होती है लेकिन देख कर भी आप उसे नज़रंदाज़ कर देते है लेकिन याद करके या सोच कर आप उन घटनाओ या चीजो को दुबारा अपने सामने ला सकते है. जैसे सड़क पर चलते हुए आप कितने लोगो और दुकानों को देखते है लेकिन उनपर ध्यान नहीं देते लेकिन आपको सोचने के लिए कहा जाये तो आप बता सकते है की कौन से दुकान कहा थी.यानि दिमाग पर जोर देकर जिन चीजो को याद किया जा सकता है वह आपका subconscious (अर्धचेतन) भाग है.

1. हमारी बहुत से कडवी यादे, इच्छाएं, डर होते है जिनके बारे में हम सोचने से डरते है और उसे अपने मन में दबा लेते है.यही बाते हमारे मन के अचेतन (unconscious) भाग में चली ,जाते है जिनके बारे में हमे नहीं पता रहता.जैसे आपके बचपन की कई बाते जिन्हें आपको याद करने के लिए कहा जाये तो आप उसे याद नहीं कर पाते.

hypnosis (सम्मोहन) में इंसान के conscious mind (चेतन अवस्था) को निंद्रा (नींद) अवस्था में लाया जाता है. जब हमारा conscious mind सो जाता है तो कोई भी information सीधे unconscious mind में जा सकती है जो पहले नहीं जा पाती थी. यानि सम्मोहन वह मनोविज्ञानिक तरीका है जिससे किसी भी इंसान को सुझावों के जरिये अर्धचेतनावस्था में लाया जाता है जिसे आप समाधि, या स्वप्नावस्था,भी बोल सकते है , लेकिन hypnotize (सम्मोहित अवस्था) में इंसान की कुछ या सब senses (आँख, कान, नाक ) उसके कंट्रोल में रहती हैं। वह बोलने के साथ साथ, चल और लिख सकता है; यहाँ तक हिसाब भी लगा सकता है यानी की जो काम वह जागती हुई अवस्था में कर सकता है वह सभी काम वह सम्मोहित अवस्था में भी कर सकता है लेकिन यह सब काम वह सम्मोहनकर्ता (डॉक्टर और therapist या कोई भी ) के सुझाव पर करता है। इस अवस्था में आप कोई बहस (argument) नहीं कर सकते क्योकि आपकी awareness को alter (बदल) कर दिया जाता है. जिसके कारण आप सम्मोहनकर्ता के सुझावों को मानना शुरू कर देते है.

2. सम्मोहन का महत्व

बहुत से लोग मानते हैं कि कृत्रिम निद्रावस्था उन्हें चोरी, हत्या, आदि जैसे अनैतिक या दुष्कर्म करने के लिए मजबूर करती है या उनके सम्मोहित राज्य और अपहर्ताओं को बलात्कार का नुकसान ले सकती है या कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों पर उनके हस्ताक्षर ले सकती है। उपरोक्त सभी भय, कि कृत्रिम निद्रावस्था में लानेवाला एक विषय का फायदा उठा सकता है, निराधार है क्योंकि एक सम्मोहनकर्ता किसी भी व्यक्ति को अपने नैतिक मानकों के विरुद्ध कुछ भी करने को नहीं कह सकता है

3. नहीं किया जा सकता माइंड वॉश

किसी को हिप्नोटाइज कर ना तो उसका माइंड वॉश किया जा सकता है, ना ही उसके दिमाग को नियंत्रित किया जा सकता है और ना ही संबंधित व्यक्ति को किसी रहस्यमय अवस्था में पहुंचाया जा सकता है जहां उसका चेतन ही उसका साथ ना दे पाए।
आत्मसम्मोहन करने के लाभ

कृपया ध्यान रखें कि स्वयं सम्मोहन न केवल आपको मानसिक आराम देता है बल्कि अधिक ध्यान केंद्रित करता है और प्राथमिकता के लिए आपको एकाग्र करतI है।

1. उद्देश्यों की प्राप्ति

आत्मसम्मोहन के दौरान, आप न केवल अपनी एकाग्रता की क्षमता में वृद्धि कर सकते हैं, लेकिन जब आप इसे कहते हैं, तो आप अपने रास्ते से भटकने की आदत भी खो सकते हैं, लेकिन यह सच है कि आप निश्चित रूप से स्वयं के सम्मोहन के माध्यम से अपने विशिष्ट उद्देश्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

2.भावनाओं को समझना

एक व्यक्ति की भावनाओ और व्यवहार को समझने और हल करने के लिए अब सम्मोहन चिकित्सा क्षेत्र में उपयोग किया जाता है। जब आप आत्म-सम्मान की स्थिति में होते हैं, तो आप अपनी याददाश्त बढ़ा सकते हैं और दिन की समस्याओं को हल करके अपने आत्मविश्वास में सुधार भी कर सकते हैं।

3. तनाव से छुटकारा

सम्मोहन आत्म-सम्मान कैसे करें

1. शांत कोना

अब देखते हैं कि कैसे और किस स्थिति में आत्म सम्मोहित हो सकते हैं। एक शांत कमरे में जाएं और किसी भी आरामदायक कुर्सी, सोफे, या बिस्तर पर बैठें

2. दिमाग से चिंता निकाल दीजिए

अपने दिमाग से हर प्रकार की बाहरी उठापटक को निकाल फेंकिए, बस ये सोचिए कि आने वाले कुछ पल सिर्फ और सिर्फ आपके हैं, इन्हीं पलों में आप अपना जीवन सुधार सकते हैं।

3. रिलैक्स करें

शांत कमरे में एक कुर्सी पर बैठ जाइए, अपने पैरों को फैला लीजिए और आंखों को बंद कर लीजिए। अगर आपने जूते पहन रखे हैं तो उन्हें भी उतार कर कुर्सी पर कुछ देर रिलैक्स होकर बैठ जाएं।

4. गहरी सांस लें

कमरे की छत के किसी भी पॉइंट पर अपना ध्यान केन्द्रित कर लीजिए। उस पॉइंट को देखते-देखते एक गहरी सांस लें और कुछ देर ठहरने के बाद ही सांस को बाहर छोड़ें।

5. सोने की कोशिश

अपने मन ही मन बहुत आराम से सोचें कि आप बहुत थक चुके हैं और अब आपको कुछ देर सोने की जरूरत है। अपने जहन में यह विचार तक कुछ देर तक दोहराते रहें। अगर अब भी आपको नींद नहीं आई तो आंखें बंद कर रिलैक्स कीजिए।

6. दबाव बनाना कम कर दीजिए

जब आपको लगे कि अब आपका शरीर आपकी बात मानने लगा है तो आप 5 से 0 तक की गिनती शुरू कीजिए और हर संख्या पर और रिलैक्स होने की कोशिश कीजिए। अब ऐसी स्थिति हो जानी चाहिए कि आप खुद को रिलैक्स करने के लिए किसी एक्स्ट्रा कोशिश की जरूरत ना पड़ रही हो।

7. मौजूदा हालातों को समझना

अपने आप को इस बात का यकीन दिलाएंगे कि आपके मौजूदा हालात कैसे और आपके लिए कितने फायदेमंद या नुकसानदेह हैं। जब आप अपनी वर्तमान परिस्थिति को समझने लग जाएं तब फिर 0-5 तक की गिनती शुरू करें और जब यह गिनती पूरी हो जाए तो पांच की आवाज पर अपनी आंखें खोलकर, अपने हाथ-पैरों को स्ट्रेच कीजिए

8. अंदरूनी मजबूती

तकनीक को तीन से चार बार करें और फिर देखिए किस तरह हर बार आप अपने जहन की गहराई को समझकर भीतरी तौर पर मजबूत होते जाएंगे।